उत्तरप्रदेशजुर्मदेश

मोबाइल को लेकर मारपीट में महिला की मौत

निघासन/खीरी

मोबाइल के विवाद ने इस कदर तूल ने पकड़ा कि दो पक्षों में जमकर मारपीट हो गयी, जिसमें एक अधेड़ महिला की मौत हो गयी। वहीं तीन लोग बुरी तरह घायल हो गये। सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को सीएचसी भर्ती कराया जिन्हें लखीमपुर रेफर किया गया है । ऐतिहातन तौर पर गांव में पुलिस तैनात की गयी है।

कोतवाली क्षेत्र के गांव झउवा पुरवा के नया गांव (टपरी) में गुरदीप सिंह व सोहन गिरि का घर आमने सामने बना है। बताया जाता है कि दस रोज पहले सोहन गिरि का मोबाइल चोरी हो गया था जिसको लेकर उसने गुरदीप सिंह के विरुद्ध पुलिस को तहरीर दी थी।

गुरुवार रात करीब आठ बजे गुरदीप के घर गांव का ही पप्पू किसी काम से आया था जिसे गुरदीप उसके घर छोड़ने जा रहा था। पप्पू को उसके घर छोड़कर वापस आते ही अपने घर के सामने रास्ते पर सोहन गिरि व उसके बेटे सुरेन्द्र , धीरेन्द्र गुरदीप पर लाठी डण्डों से प्रहार करने लगे। शोर शराबा सुनकर उसकी पत्नी रविन्द्र कौर व पुत्र कुलदीप सिंह आ गया। दोनों तरफ से लाठी डण्डे, बांका व कुल्हाड़ी चलने लगे। बीच बचाव करने के दौरान गांव के कई लोग चोटिल हो गये।

गांव के ही मुख्तार सिंह ने यूपी 112 व कोतवाली पुलिस को फोन कर दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल रविन्द्र कौर , गुरदीप सिंह व कुलदीप को सीएचसी पहुंचाया। जहां चिकित्सकों ने रविन्द्र कौर को मृत घोषित कर दिया। वहीं गुरदीप व कुलदीप को जिला अस्पताल रेफर किया गया है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पीएम के लिये जिला मुख्यालय भेजा है।

दरवाजे में लगा लिया बिजली का तार:- पुलिस को पहुंचा देख आरोपी सोहन , सुरेन्द्र व धीरेन्द्र ने दरवाजे में बिजली का तार जोड़कर उसे बंद कर लिया । दरवाजा खुलवाते समय पुलिस व कई ग्रामीणों को करंट भी लग गया। कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस दरवाजा खुलवा पायी। मौके से हत्या में प्रयोग की गयी कुल्हाड़ी, एक अवैध असलहा , दो जिन्दा कारतूस , व एक कच्ची दारू की पिपिया मिली है।

पुलिस चेत जाती तो नहीं होती घटना : – झउवा पुरवा के नया पुरवा ( टपरी ) में कई जगहों पर कच्ची दारू के अड्डे हैं। शाम को रोजाना लोगों का जमावड़ा लगता है व उनमें विवाद होता रहता है। पुलिस ने जी चुराते हुए वहां जाना मुनासिब नहीं समझा। मोबाइल चोरी की मामूली घटना पर पुलिस ने गौर नहीं किया। अगर समय से पुलिस चेत जाती तो शायद रविन्दर कौर की जान बच जाती।

गांव वालों में दहशत को देखते हुये कोतवाली पुलिस ने दरोगा जेपी यादव , अजीत सिंह , सिपाही अमर कौशिक , सचिन मावी व हरिओम को तैनात किया है । इस बाबत प्रभारी निरीक्षक चन्द्रभान सिंह ने बताया कि दरोगा जेपी यादव व सिपाही कौशिक ने मोबाइल का विवाद पहले ही सुलझा दिया था। जब से मैं आया हूं मोबाइल चोरी सम्बंधी कोई तहरीर नहीं आयी है । मामले की रिपोर्ट दर्ज कर ली है। आरोपी सोहन, सुरेन्द्र, धीरेन्द्र, फूलकुमारी, गीता व खुशबू को हिरासत में लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!