Uncategorized

मनीष गुप्ता मर्डर केस: खुद ही अपने जाल में फंस गई गोरखपुर पुलिस

गोरखपुर

कानपुर के मनीष की पिटाई बाद होटल के कमरे को तो पुलिस कर्मियों ने खूब साफ किया था पर तौलिया ठिकाने लगाना भूल गए। खून से सनी तौलिया उन्होंने बेड के नीचे ही फेंक दिया था। पति के शव को लेकर कानपुर लौटते समय होटल पर सामान लेने गई मीनाक्षी ने बेड के नीचे से तौलिया निकाल कर सबको दिखाया और कहा कि पुलिस अपनी करतूत कैसे छिपाएगी। मीनाक्षी ने तौलिया को लेकर हंगामा शुरू किया। होटल मालिक सुभाष शुक्ला ने बताया कि कमरे की चाबी पुलिस के पास ही थी। स्टाफ ने अंदर कुछ भी नहीं किया है।कृष्णा पैलेस होटल के मालिक ने बताया कि सोमवार की रात में सात कमरों में गेस्ट थे। आधी रात को करीब 12 बजे इंस्पेक्टर जे एन सिंह और उनकी टीम आई। रिसेप्शन पर मौजूद होटल मैनेजर आदर्श पाण्डेय से उन्होंने कहा कि होटलों की चेकिंग का आदेश है। स्टाफ ने बताया कि सात कमरों में गेस्ट हैं। उन्होंने रजिस्ट्रर चेक किया तो पता चला कि कमरा नम्बर 512 में तीन गेस्ट हैं, वे अलग-अलग शहर से आए हैं। पुलिसवालों ने पहले उसी कमरे को चेक करने को कहा और होटल स्टाफ को साथ लेकर कमरे में पहुंचे और दरवाजा खुलवाया। उसके बाद क्या हुआ, यह नहीं पता। कुछ देर बाद मनीष गुप्ता को पुलिस वाले टांग कर ले जा रहे थे। दो पुलिसवालों ने हाथ पकड़ा था वहीं उनके दो स्टाफ को उन्होंने बुलाया था, वह दोनों पैर पकड़े हुए थे। उन्हें बाहर गाड़ी तक ले जाने की सीसी टीवी फुटेज में रिकार्डिंग हैं। अब वह फुटेज भी पुलिसकर्मियों के पास ही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!